Skip to content

करौली शंकर महादेव: दरबार में मात्र ढोलक बजाने से दूर हो गई पैरालिसिस की बीमारी और बदन के सारे दर्द/Karauli Sarkar

बाबा करौली सरकार (Karauli Shankar Mahadev) के दरबार में ऐसी घटनाए हमेशा घटते रहती हैं जो किसी भी व्यक्ति को आश्चर्य में डाल सकती है। बाबा श्री करौली सरकार कहते हैं कि चमत्कार जैसा कुछ नही होता है लेकिन जो घटनाए दरबार में घटती है, उसे आम भाषा में चमत्कार ही कहा जा सकता है।

बाबा करौली शंकर महादेव
बाबा करौली शंकर महादेव @यूट्यूब

दोस्तो! मैं आप लोगो को एक अद्भुत किंतु सत्य घटना बताने जा रहा हूं । ये घटना भी बाबा करौली शंकर महादेव जी के दरबार से ही संबंधित है। दरअसल, रोज की भांति, जब बाबा का दरबार लगा और करौली सरकार अपने आसान पर विराजमान हुए तब एक फरियादी मैक के पास आया और अपना दुखड़ा सुनाने लगा। उसके कपड़े, शरीर आदि देखने से मालूम पड़ता था कि वो एक साधारण परिवार से संबंध रखता है। व्यक्ति ने बाबा से कहना शुरू किया: मेरा जीविका का एकमात्र साधन एक मंदिर ही है। जिसमे मैं ढोलक बजाकर अपने परिवार का गुजारा करता हूं। बाबा मैं आपके दरबार आना चाह रहा था इसलिए अपने दोस्तो और मंदिर के पुजारी आदि से इस मामला में बातचीत किया लेकिन वे लोग नाराज – सा हो गए। उन्होंने मुझे बहुत समझाया और बोला वहां मत जाना। मैंने नहीं माना, मैं बोला वहां जरूर जाऊंगा। तब वे लोग नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि यदि तुम वहां गए तब मंदिर से अपना ढोलक भी लेकर चला जाना। तुम्हारा यहां कोई काम नही है। उसके बाद मैने निश्चय किया कि चाहे मुझको मंदिर खाली करना पड़े लेकिन बाबा के दरबार जरूर जाऊंगा। ऐसा सोचकर ही आपके दरबार आया हूं।

उन्होंने आगे कहा कि बाबा! मैं तो आपके दरबार आ गया किंतु मैं रहूंगा कहां। मुझे तो मंदिर खाली करने बोला गया है। बाबा बोले “चिंता मत करो”। खाली कर दो मंदिर। यहां आकर रहो और ढोलक बजाओ। ये दरबार सिर्फ मेरा नही, तुम्हारा भी है। तुम्ही दुखहरी लोगो के लिए यह दरबार बना है। बाबा से रहने का आश्वासन पाकर वह व्यक्ति खुश हो गया और बाबा को धन्यवाद दिया।

फरियादी जो सिर्फ दरबार के ढोलक बजाने से हुआ “पैरालिसिस से मुक्त” @यूट्यूब

उसके बाद, उन्होंने बाबाजी को बताया कि मुझे बहुत तकलीफ है। बाबा ऐसा सुनकर बोले: अपनी दोनो आंखे बंद कर लो। उसके बाद बाबा अपनी दिव्य शक्तियों द्वारा उसके शरीरकष्ट आदि का निरीक्षण किए। उसके बाद बाबा जी उस व्यक्ति से बोले कि अपनी आंखो खोल दो और मेरी बाते को सुनो।

करौली सरकार के दरबार का चमत्कार

बाबा बोले: तुम्हे पैरालिसिस की समस्या थी। व्यक्ति बोला: हां बाबाजी, मेरा एक पैर सही से काम नही करता था। सुन्न सा रहता था। शरीर में बहुत दर्द रहता था। बाबाजी बोले: अभी कोई दर्द आदि है। व्यक्ति बोला: नही, अभी कोई दर्द नही है। हाथ भी खुला – खुला लग रहा है। मन भी अच्छा लग रहा है। बाबाजी बोले कि आपने दरबार में आकर तन – मन से संगीत कार्यक्रम में भाग लिया है और ढोलक आदि बजाया है। जिससे दरबार आपसे बहुत खुश है। दरबार खुश होकर आपके शरीर के सारे दर्द खत्म कर दिए है। पैरालाइसिस को स्मृतियों को भी नष्ट कर दिया है। अब आपको पैरालिसिस से मुक्ति मिल गई है। आपके शरीर में होने वाले खुजली भी खत्म हो गई। अब आप पूर्ण स्वस्थ हो। अब मन भी सही से काम करेगा।

ऐसा सुनकर वहां उपस्थित लोगो को आश्चर्य हुआ क्योंकि वह व्यक्ति अपने कष्ट आदि दूर करने के लिए हवन आदि कुछ नही किया था। सिर्फ दरबार के लिए ढोलक बजाया था। फिर भी उस व्यक्ति को 09 हवन के पुण्य मिले और पैरालिसिस सहित सारे कष्ट समाप्त हो गए। यह एक आश्चर्य से कम नहीं था।

वास्तव में, दरबार की सेवा करने के कारण, दरबार खुश होकर आशीर्वाद स्वरूप उस व्यक्ति को ना सिर्फ 09 हवन का पुण्य दिए बल्कि उसके पैरालिसिस की बीमारी और बदन के सारे दर्द खत्म कर दिए।

जो भी व्यक्ति तन – मन से दरबार की सेवा करता है। उसके प्रति समर्पण का भाव रखता है। भगवान शिव, माता कामख्या और बाबा राधा रमण मिश्र का पूजा – ध्यान आदि करता है। उस पर दरबार अपना कृपा दृष्टि बनाए रखता है और उसके सारे कष्ट आदि खत्म कर देता है। इसके साथ जीवन में उन्नति के लिए अच्छे रोजी रोजगार के आवास प्रदान करते है या खराब चल रहे व्यवसाय – धंधा को ठीक कर देता है। इस प्रकार दरबार, भक्तो के विभिन्न प्रकार के परेशानियों से मुक्त कर देता है ताकि भक्त गण एक अच्छी लाइफ जी सके।

बाबा करौली शंकर महादेव का पता

दरबार का नाम: करौली शंकर महादेव।

स्थान: कानपुर, उत्तरप्रदेश (भारत)

व्हाट्सएप नंबर: 9839861919

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *