Skip to content

नागराज के साथ सोता था पंजाबी/खुद भी बन जाता था नाग/जवानी हुआ बेकार, नही हुई शादी/आया करौली दरबार (Karauli Shankar Mahadev)

बाबा करौली सरकार (Karauli Shankar Mahadev) के दरबार में, अपनी तकलीफों से मुक्ति पाने के लिए, सभी धर्म के लोग आते है। दिल्ली के रहने वाले एक पंजाबी साहब भी आए थे। वो स्वयं भी नाग बन जाते थे। लोग उनसे डरते थे इसलिए लोग उनके करीब नही जाते थे। पढ़े लिखे होने के बावजूद शादी नही हो सकी। सब क्षमता होने के बावजूद कमा नही सके। इसके कारण जानने और निवारण के आए सनातन संस्कृति की सबसे बड़ा चिकित्सालय “करौली शंकर महादेव का दरबार”। जहां वे अपनी परेशानी और दर्द से हुए मुक्त। बाबा लोगो की समस्याएं को सनातन धर्म की विशाल शक्तियों के सही उपयोग द्वारा दूर करते है जिसे ईश्वरीय चिकित्सा कहा जाता है।आइए जानते हैं विस्तार से

बाबा करौली शंकर महादेव
पंजाबी का फरियाद सुनते करौली सरकार @यूट्यूब

एक पंजाबी की दिखता था नाग और नागो का समूह

बाबा करौली शंकर महादेव के दरबार में दिल्ली से आए एक पंजाबी सज्जन ने बाबा जी सादर प्रणाम किया और अपना दुखड़ा बाबा को बताना शुरू किया। उन्होंने बताया कि मैं दिल्ली से आया हूं। मैं चार भाई हूं। नौकरी लेने का बहुत प्रयास किया किंतु असफल रहा।दरअसल मैं 18 सालो से परेशान हूं। मैं इसका इलाज के लिए पाकिस्तान बॉर्डर तक गया लेकिन मुक्ति नही मिली।कही पर भी मेरी बीमारी का इलाज नहीं हो सका। मेरे पूरा शरीर में दर्द होता है। मेरे पास नाग देवता आते है। वो ग्रुप में भी आते है। अपना रंग रूप बदलकर कई रूपों में भी आया करते है। इससे मुझे बहुत परेशानी होती है। कृप्याकर मुझे इस समस्या से मुक्त कर दीजिए।

बाबा के सामने नाग बनाता फरियादी पंजाबी @यूट्यूब

बाबा करौली शंकर महादेव उनकी बातो को सुनकर बोले कि आप अपनी दोनो आंखो को बंद कर लीजिए। उसके बाद बाबाजी अपनी दिव्य शक्तियों से उसके सारे दुखों और उसके कारणों को निरीक्षण किए। उसके बाद उन्होंने बताया कि ये सारे कष्ट आपके गलत पूजा – पाठ के परिणाम है।आपको गुरु नानक की पूजा करनी थी। वे सिद्ध गुरु है लेकिन आपने विभिन्न स्थानों पर जाकर विभिन्न देवी – देवताओं की पूजा की। जिसके कारण आप में बुरी शक्तियों का वास हो गया। तमाम कष्ट के साथ, आपके सूक्ष्म शरीर में हृदय ही नही है।आपके द्वारा बुलाई गई एक देवी उसे खा गई है। क्या आपको हृदय के पास दर्द महसूस नहीं होता। तो उस पंजाबी ने कहा: हां, बहुत तीव्र दर्द होता है। ठीक है, आपका इलाज हो जायेगा। आप आंख बंद करके खड़ा रहिए, बाबाजी ने पंजाबी से ऐसा कहा। उसके बाद पंजाबी आंख बंद करके खड़ा हो गया।

बाबाजी करौली सरकार अपनी दिव्य शक्तियों द्वारा उस पंजाबी के शरीर में कष्ट पैदा करने वाले सभी नेगेटिविटी को दरबार में खीच लाए। नाग और नाग बनने वाली सभी बुरी शक्तियों को भी दरबार में लाकर अच्छी तरह से कुटाई की। उसके बाद, सभी बुरी शक्तियों को उस पंजाबी के सिर से उतारकर, उसके पैर के अंगूठे में बांध दिया गया ताकि दिमाग सही ढंग से काम कर सके और बुरी आत्माएं उसे परेशान ना करे। जब उस पंजाबी द्वारा बाबा के दरबार की प्रक्रिया को सही ढंग से पालन किया जाएगा और हवन आदि किया जाएगा तब उसकी आध्यात्मिक शक्ति बढ़ जाएगी। फिर उसी शक्तियों के इस्तेमाल करके उन सारे दुष्टों का संहार किया जाएगा। फिलहाल सभी दुष्ट आत्माओं को बेहोश करके उसके पैर के अनूठे में बांध दिया गया है।

उसके बाद उन्होंने पंजाबी से कहा कि पांच बार भगवान शिव का महामंत्र “ॐ नमः शिवाय” बोलकर बंधन खींचिए। पंजाबी ने ऐसा ही किया। उसके बाद बाबाजी पूछे अभी कैसा महसूस हो रहा है। पंजाबी बोला: बाबा जी बहुत अच्छा लग रहा है। मेरे कमर में बहुत दर्द था लेकिन अभी खत्म हो गया और मन भी अच्छा लग रहा है। बाबाजी बोले: ठीक है अब कुछ नहीं होगा, दरबार का नियम पालन करो। पूर्ण स्वस्थ हो जाओगे। उसके बाद पंजाबी बाबाजी को सादर प्रणाम कर चला गया।

आम लोगो को नही दिखता बाबा की कोई प्रक्रिया

ये सारे कार्य बाबाजी द्वारा सूक्ष्म रूप से किया जाता है जिसे आम इंसान अपनी भौतिक आंखो से नहीं देख पाता है। जब तक कि उसे अलौकिक शक्तियां नही मिल जाए।बाबा के साथ दरबार में बैठे, बाबा के तमाम सहकर्मी उन सारे चीजों को आसानी से देख पाते है क्योंकि हवन आदि द्वारा उनलोगो ने अपनी शक्ति बढ़ा ली है। फिर बाबा जी कृपा भी उनलोगो पर बनी रहती है जिसके कारण वे सारी चीजों को आसानी से देख पाते है और लोगो के रोग मुक्त करने की प्रक्रिया में भी भाग लेते है।

बाबा करौली शंकर महादेव का पता

बाबा का दरबार नाम: करौली शंकर महादेव, कानपुर।

स्थान: कानपुर, उत्तरप्रदेश।

व्हाट्सएप नंबर: 9839861919

1 thought on “नागराज के साथ सोता था पंजाबी/खुद भी बन जाता था नाग/जवानी हुआ बेकार, नही हुई शादी/आया करौली दरबार (Karauli Shankar Mahadev)”

  1. Pingback: Karauli Sarkar: विद्यार्थी नव्या कभी बैठ नही पाती थी, बाबा के दरबार में पहली बार बैठी/ रात में अकेले रहने का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *